राणा अय्यूब के खिलाफ गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाने में मुकदमा दर्ज, जानिए किस मामले में फंसी मुंबई की पत्रकार

अपने बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहने वालीं महिला पत्रकार राणा अयूब के खिलाफ मंगलवार को उत्तर प्रदेश में गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। राणा अयूब के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग और आईटी अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हिंदूवादी समूह ‘हिंदू आईटी सेल’ (Hindu IT Cell) ने इस मामले में बीजेपी विरोध के लिए मशहूर राणा अयूब के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

अपनी शिकायत में समूह ने आरोप लगाया था कि अयूब ने एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के द्वारा चैरिटी के नाम पर अवैध रूप से धन एकत्र किया था। शिकायत में यह भी कहा गया था कि अयूब ने सरकार की अनुमति के बिना विदेशी फंड भी प्राप्त किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस का कहना है कि वादी की शिकायत के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले में सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है।

राणा के खिलाफ यह केस फंड इकट्ठा करने वाले प्लेटफॉर्म केटो (ketto) पर चलाए गए तीन अभियानों से संबंधित है। ये कैंपेन झुग्गीवासियों और किसानों, असम, बिहार और महाराष्ट्र में राहत कार्य तथा भारत में कोविड -19 से प्रभावित लोगों की मदद के नाम पर चलाया गया था। शुरू से ही राणा का यह कैंपेन शक के घेरे में था, क्योंकि उन्होंने जरूरी मंजूरी के बिना ही विदेशों से चंदे की वसूली की थी।

फंड जुटाने में हेरफेर के आरोपों के बाद राणा अयूब ने कैंपेन बंद कर दिया था। साथ ही दावा किया था कि वह विदेशी चंदा वापस कर रही हैं। लेकिन पिछले महीने केटो की तरफ से दी गई जानकारी से पता चला कि उन्होंने विदेशों से लिए गए इस तरह के किसी भी दान वापस नहीं किया।

बता दें कि गाजियाबाद में राणा अयूब पर यह दूसरा मुकदमा दर्ज हुआ है। जून में गाजियाबाद में एक बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति पर हमले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करने के मामले में भी राणा अयूब के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में 21 जून को बॉम्बे हाईकोर्ट ने उन्हें चार सप्ताह के लिए गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा प्रदान की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *