सुधीर चौधरी को दुबई आमंत्रित किये जाने पर UAE की राजकुमारी ने आयोजक सुनाई खरी-खरी, कहां हिम्मत कैसे हुई आतंकवादी को बुलाने की

यूएई की राजकुमारी हेंड बिंत-ए- फैसल अल कासिम ने भारत के विवादास्पद एंकर सुधीर चौधरी दुबई आमंत्रित किए जाने की आलोचना की है। संयुक्त अरब अमीरात की राजकुमारी ने सुधीर चौधरी को अपने टीवी कार्यक्रम के माध्यम से इस्लामोफोबिया को बढ़ावा देने वाला बताया, और उस आयोजक को भी फटकार लगाई है जिसने इस्लामोफोबिया फैलाने वाले ज़ी न्यूज के एंकर सुधीर चौधरी को दुबई में आमंत्रित किया।

सुधीर चौधरी को एक ‘आतंकवादी’ के रूप में संबोधित करते हुए, संयुक्त अरब अमीरात की राजकुमारी ने आयोजक को याद दिलाया कि कैसे विवादास्पद टीवी एंकर नियमित रूप से इस्लाम और उसके अनुयायियों को बदनाम कर रहा है।

राजकुमारी ने ट्वीट किया, “2019 और 2020 में, सुधीर चौधरी ने ज़ी न्यूज़ पर शो चलाया, जिसमें उसने नागरिकता क़ानून का विरोध करने वाले आंदोलकारी मुसलमानों के खिलाफ जहर उगला। राजुकमारी के मुताबिक़ इस एंकर ने शाहीनबाग़, नई दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में नागरिकता विरोध का नेतृत्व करने के लिए मुस्लिम छात्रों और महिलाओं को निशाना बनाते हुए फर्जी ख़बरें चलाईं।

यूएई की राजकुमारी ने आयोजक इंडियन चार्टर एकाउंटेंट्स एसोसिएशन के अबू धाबी चैप्टर से सवाल किया, वे ‘मेरे शांतिपूर्ण देश में इस्लामोफोबिया और नफरत क्यों ला रहे हैं?’ उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “सुधीर चौधरी एक हिंदू दक्षिणपंथी एंकर हैं जो अपने इस्लामोफोबिक शो के लिए जाने जाता है और भारत के 200 मिलियन मुसलमानों को निशाना बनाता है। उसके कई प्राइम टाइम शो ने देश भर में मुसलमानों के खिलाफ होने वाली हिंसा में सीधे तौर पर योगदान दिया है।”

राजुकमारी ने अपने ट्वीट में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया को टैग करते हुए पूछा, “आप यूएई में एक असहिष्णु आतंकवादी क्यों बुला रहे हैं?” सुधीर चौधरी भारत में मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले भारतीय टीवी एंकरों में सबसे आगे रहा है, जिसे अक्सर लैपडॉग या टीवी अपराधियों के रूप में जाना जाता है। उसने 2020 में कोरोनावायरस फैलाने के लिए भारतीय मुसलमानों को दोषी ठहराने के लिए अभियान चलाया था।

बताते चलें कि सुधीर चौधरी ने हाल ही में एक्सपो 2020 की कवरेज के लिए दुबई का दौरा किया, जिसके बाद कई लोगों ने यूएई के शासकों से उनके प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा। लेकिन, यूएई के शासकों ने इस मांग पर आंखें मूंदी हुईं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *