हिंदू लड़की से प्यार के चलते हुआ इंजीनियर अरबाज का कत्ल- पुलिस को मिला सुराग, मां बोलीं- एक हजार लोग रच रहे थे हत्या की साजिश

कर्नाटक के बेलगावी जिले के रेलवे ट्रैक पर 28 सितंबर को जिस 24 साल के युवक का शव मिला था, उस मामले में बड़ी खबर सामने आई है। इस घटना पर आशंका जताई जा रही है कि युवक की हत्या इंटर-फेस रिलेशनशिप की वजह से हुई।युवक का नाम अरबाज आफताब मुल्ला था और उसका शव बुरी हालत में बरामद हुआ था। पोस्टमार्टम के दौरान ये सामने आया था कि उसकी हत्या की गई है। पुलिस के सूत्रों का कहना है कि वह इस घटना में एक लड़की के साथ रिलेशनशिप के एंगल की भी जांच कर रही है। लड़की हिंदू थी और कई सालों से युवक के साथ रिलेशनशिप में थी।इस मामले में अरबाज की मां नजीमा शेख ने पुलिस को दी गई शिकायत में कहा है कि उन्हें शक है कि जिस लड़की के साथ उनका बेटा रिलेशनशिप में था, उसके पिता ने इस हत्या को अंजाम दिया है। लड़की के पिता के साथ कुछ दक्षिणपंथी विचारधारा के लोग भी इस घटना में शामिल हैं।24 साल के अरबाज बेलगावी के आजम नगर के रहने वाले थे और सिविल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट थे। वह बेलगावी में कार डीलर के तौर पर काम करते थे। 28 सितंबर को उसका शव मिलने के बाद रेलवे पुलिस ने शुरू में अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज किया था, लेकिन पोस्टमॉर्टम में ये सामने आया कि उनके सिर में छुरा घोंपा गया था। इसके बाद ये बात साबित हुई कि अरबाज की हत्या की गई है।

कर्नाटक के इस मामले में पुलिस अधीक्षक (रेलवे) सिरी गौरी ने कहा, “पीड़ित की मां द्वारा शिकायत दर्ज करने के बाद, हमने आईपीसी 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज किया। मामले को आगे की जांच के लिए बेलगावी जिला पुलिस को ट्रांसफर कर दिया जाएगा क्योंकि मौत ट्रेन की चपेट में आने से नहीं हुई थी।”बेलगावी जिला पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ये मामला आधिकारिक तौर पर उन्हें सौंपा जाना बाकी था, लेकिन उन्होंने पहले ही जानकारी इकट्ठा कर ली थी, जिसमें ये सामने आया था कि अरबाज की हत्या एक हिंदू लड़की के साथ संबंधों के कारण हुई थी।पुलिस से जुड़े सूत्र ने बताया है कि सभी आरोपियों की पहचान कर ली गई है। घटना के सही क्रम का पता लगाने की कोशिश की जा रही है। लड़की के साथ संबंध एक मुद्दा था और दोनों पक्षों के बीच इस पर बहुत सारी बातचीत हुई थी। इसमें दक्षिणपंथी चरमपंथी संगठनों से जुड़े लोगों के शामिल होने का संदेह है।अरबाज की मां नजीमा शेख ने द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए बताया कि उनका बेटा एक हिंदू लड़की के साथ रिश्ते में था, जो दो साल से अधिक समय से चल रहा था। हमारे और लड़की के परिवार को इस बात की जानकारी थी। लड़की के परिजनों ने हमें धमकाया था, इसलिए हम बेलगावी के एक तालुके से शहर में शिफ्ट हो गए थे। अरबाज की मां पेशे से एक टीचर हैं और उनके पति का 3 साल पहले ही निधन हो चुका है। उनके एक बेटी है, जो लंदन में इंजीनियर है।नजीमा ने बताया कि बेटे के लापता होने के 2 दिन पहले, वह और अरबाज 2 हिंदू कार्यकर्ताओं से मिले थे, जिनमें से एक का नाम ‘महाराज’ था। हमें गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी गई थी और उन्होंने हमें मामला सुलझाने के लिए खानापुर के पास आने के लिए कहा था।नजीमा ने बताया कि 26 सितंबर को, अरबाज और मैं वहां गए थे और उनकी मौजूदगी में, अरबाज ने अपने फोन पर अपनी प्रेमिका की सभी तस्वीरें हटा दी थीं। उन्होंने हमसे कुछ पैसे भी लिए थे। उन्होंने मुझे बताया था कि अरबाज और मुझे मारने के लिए कम से कम एक हजार लोग तैयार थे। मैंने उनसे विनती करते हुए कहा था कि हमें शांति से जीने दें। अरबाज ने अपना सिम कार्ड भी निकाल दिया था और नया नंबर ले लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *