अन्न व औषध प्रशासन (FDA) विभाग की लापरवाही व निरिक्षण ना करने से होने वाली समस्याओं से राका ने, अन्न वा औषध मंत्री को कराया अवगत

अन्न व औषध प्रशासन (FDA) विभाग की लापरवाही व निरिक्षण नही करने से होने वाली समस्याएं

राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व अन्न व औषध प्रशासन मंत्री डॉ. राजेंद्र शिंगणे के नागपुर आगमन पर राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी मध्य नागपुर अध्यक्ष रिज़वान अंसारी के नेतृत्व में नागपुर शहर की विभिन्न समस्याओं को लेकर एक ज्ञापन दिया गया।

(FDA) विभाग की लापरवाही के कारण नागपुर शहर में बहुत सी समस्याएं खड़ी हो गई है। जिसके कारण जनता हताश है। आज नागपुर शहर की आबादी लगभग 40 लाख से ज्यादा है और औषधी के निरिक्षण के लिए (FDA) में सिर्फ 12 – 15 निरिक्षक अधिकारी ही है। (FDA) विभाग में निरिक्षक अधिकारी अपना काम इमानदारी से नहीं करते है, जिसके कारण निम्नलिखित समस्याएं खड़ी हुई है।

1) औषधी की दुकानों पर सामान्य निरिक्षण लगभग ढ़ेड साल (जब से कोरोना काल शुरु हुआ है) से बंद है। जिसके कारण औषधी विक्रेता और डॉक्टर मनमानी कर रहे है। डॉक्टर जिस फार्मेसी के लिए औषधी लिखेगा वह औषधी वहीं मिलेगी। जिससे ग्राहक मजबुर हो जाते है। जबकी ग्राहक मियम अनुसार उसको डिसकाऊंट भी मिलना चाहिए। विक्रेता की अपनी मनमानी करना अवैध है।

2) डॉक्टर अगर 4 Tablets लिखता है तो भी औषधी विक्रेता पुरी 10 Tablets की Strips लेने का बोलता है। इस प्रकार ग्राहकों को लुटा जा रहा है, जो कि नियम के विरुद्ध है।

3) नियमानुसार डत्च् कीमत पर भी 10% से 15% डिस्काउंट देने का प्रावधान है, लेकिन कोई भी औषधी विक्रेता छुट नहीं दे रहा है।

4) ज्यादातर औषधी दुकानों पर बिल (Bill) नहीं दिए जाते है। अगर किसी औषधी से Side Effects होते है तो वह व्यक्ति Medical Claim और Complaint कैसे करेंगा?

5) Consumer Forum में भी ग्राहक की शिकायत पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। वह विभाग भी ग्राहकों को सहुलियत नहीं दे रहा है।

ज्ञापन सौंपते समय शिष्ठमंडल में प्रशंत पवार, जावेद हबीब, महादेराव फुके, शैलेंद्र तिवारी, महेंद्र भांगे, मुन्ना तिवारी, संतोष सिंह, वसीम शेख लाल, इसराईल अंसारी, राकेश बोरीकर, भैया लाल ठाकुर, जावेद खान आदि का समावेश था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *