यूक्रेन की महिला ने अपनाया इस्लाम, कुछ घंटे बाद ही आया हार्ट अटैक और हो गई मौत, जनाजे में उमड़ी भारी भीड़

78

दुबई: बीते मंगलवार को दुबई की एक कब्रिस्तान मस्जिद में सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा थी। ये लोग एक महिला के जनाजे को सुपुर्द-ए-खाक करने के लिए यहां पहुंचे थे। ये महिला कोई बहुत बड़ी हस्ती नहीं थी और तो और दुबई की नागरिक भी नहीं थी। इतना ही नहीं, उसे मुस्लिम कब्रिस्तान में दफनाया जा रहा था लेकिन वह कुछ घंटे पहले तक मुसलमान नहीं थी। जी हां, हो गए न हैरान कि फिर क्यों उसे मुस्लिम कब्रिस्तान में जगह दी जा रही थी। आइए हम बताते हैं। दरअसल महिला के इस्लाम अपनाने के कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई

शुक्रवार को अल कुसैस कब्रिस्तान मस्जिद में महिला के लिए आखिरी प्रार्थना की गई, जिसमें सैकड़ों अमीराती नागरिक और प्रवासी शामिल हुए। दुबई में अंतिम संस्कार के बारे में बताने वाले पॉपुलर सोशल मीडिया अकाउंट ने इस बारे में जानकारी दी है। जनाजा यूएई नाम के हैंडल से दी गई जानकारी के मुताबिक, 29 वर्षीय महिला यूक्रेन से आई थी और उसने मौत से कुछ घंटे पहले ही इस्लाम अपनाया था। रिपोर्ट के अनुसार, महिला का नाम दारिया कोस्तारेंको था और दुबई में उसका कोई परिजन या रिश्तेदार नहीं था।

हार्ट अटैक से हुई मौत

दुबई आधारित न्यूज वेबसाइट खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, डारिया एक पर्यटक के तौर पर दुबई पहुंची थी और उसका मन यहां इतन लगा कि वह यहां रहने के लिए नौकरी की तलाश करने लगी। इस दौरान उसे इस्लाम को जानने का मौका मिला और उसने इसे प्रभावित किया। रिपोर्ट के मुताबिक, यूक्रेन की रहने वाली दारिया ईसाई थी और उसने 25 मार्च को दुबई में इस्लाम धर्म अपनाया था। बताया जाता है कि इस्लाम अपनाने के कुछ घंटे बाद ही उसे हॉर्ट अटैक आया और मौत हो गई। जब उसकी मौत हुई, वह रमजान महीने में रोजा भी रखे हुए थी।

जनाजे में पहुंचे लोग

महिला को जब दफनाया जा रहा था तो सैंकड़ों लोग वहां पहुंचे। हालांकि, यूएई में ये पहली बार नहीं है कि जब इस्लाम को अपनाने वाले लोगों की मौत के बाद बड़ी संख्या में लोग उसके समर्थन में पहुंचे हैं। ऐसा ही एक मामला नवम्बर 2022 में आया था, जब एक 93 वर्षीय महिला की इस्लाम अपनाने के ठीक बाद मौत हो गई थी। उस समय भी महिला के जनाने में बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे।