Syria Earthquake Video: खुद पीठ पर पत्‍थर गिरने का डर, फिर भी भाई को बचाती रही 7 साल की बहन, 17 घंटे बाद मलबे से आए दोनों मासूम

74

विनाशकारी भूकंप ने सीरिया और तुर्की (Syria and Turkey earthquake) को पूरी तरह से तबाह करके रख दिया है। यहां से कई ऐसी तस्‍वीरें आ रही हैं जो दिल तोड़ने वाली हैं। कई बच्‍चे हैं जिनकी जान चली गई है तो कई ऐसे हैं जिन्‍होंने जिंदगी की एक नई उम्‍मीद दी है। ऐसी ही उम्‍मीदों से भरी तस्‍वीर एक बच्‍ची की आई है जो अपने भाई को बचा रही है।

: छह फरवरी 2023 का दिन तुर्की और सीरिया के इतिहास से कभी नहीं मिटाया जा सकेगा। तड़के चार बजकर 17 मिनट पर आए एक भूकंप ने सबकुछ तबाह कर दिया। अब तक करीब आठ हजार लोगों की मौत हो चुकी है और कई तस्‍वीरें दिल तोड़ने वाली हैं। कई मासूम बच्‍चों की भी मौत हुई हैं। लेकिन इसी भूकंप के मलबे से एक ऐसी तस्‍वीर आई है जो नाउम्‍मीदगी में भी एक उम्‍मीद जगा जाती है। यह तस्‍वीर है एक सात साल की बच्‍ची और उसके भाई की। इस तस्‍वीर ने भाई बहन के खूबसूरत रिश्‍ते को फिर अमर कर दिया जो इस दुनिया में सबसे प्‍यारा है। इन दोनों बच्‍चों को 17 घंटे बाद मलबे से सुरक्षित बाहर निकाला गया।

अपना डर किनारे, भाई सबसे पहले

भूकंप का मलबा जो खुद अपने आप में डराने वाली चीज है, उसके अंदर यह बच्‍ची बिना डरे-घबराए अपने भाई की रक्षा करती रही। खुद उसकी पीठ से कुछ ऊपर एक पत्‍थर था लेकिन वह अपने प्‍यारे भाई को चोट नहीं लगने देना चाहती थी। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि ये बच्‍ची उसकी बहन है। मगर यूनाइटेड नेशंस (UN) के प्रतिनिधि मोहम्‍मद साफा जिन्‍होंने इस तस्‍वीर को ट्वीट किया है, उन्‍होंने इस दूसरे बच्‍चे को उसका भाई बताया है।

साफा ने लिखा, ‘यह सात साल की बच्‍ची अपने छोटे भाई के सिर पर हाथ रखकर उसकी रक्षा कर रही है जबकि दोनों मलबे में 17 घंटे तक फंसे रहे। इस तस्‍वीर को किसी ने शेयर नहीं किया और अगर वह मर जाती तो हर कोई इसे शेयर कर रहा होता।’ साफा ने अंत में लिखा, ‘पॉजिटिविटी को शेयर करिए।’ तुर्की और सीरिया दोनों ही देशों में जमकर तबाही हुई है। इस तबाही में कई बच्‍चों ने अपनी जान गंवाई है तो कुछ बचकर बाहर निकले हैं। खून जमाने वाला तापमान यहां पर राहत कार्यों में बाधा डाल रहा है। राहत और बचावकर्मी बिना रूके और थके मलबे से बच्‍चों को निकालने का काम कर रहे हैं।