जमाअ़त ए इस्लामी हिंद की महिला विभाग ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया,इस्लामी अधिकारों के नाते आज मुस्लिम महिलाएं विभिन्न ख़िताब लेकर देश का भाग्य बनी हुई हैं- डॉ सबीहा ख़ान

80


जमाअ़त ए इस्लामी हिंद की महिला विभाग ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया
इस्लामी अधिकारों के नाते आज मुस्लिम महिलाएं विभिन्न ख़िताब लेकर देश का भाग्य बनी हुई हैं- डॉ सबीहा ख़ान

नागपुर – हमारे देश में महिलाएं अपने जिन मूलभूत अधिकारों के लिए सदियों से संघर्षरत रहीं हैं वे अधिकार इस्लाम धर्म ने उसे जन्म लेते ही दे दिए हैं । इसके अंतर्गत शिक्षा का अधिकार, विरासत में उसका हक़ जैसे बहुत से अधिकार शामिल हैं। इस्लामी अधिकारों के नाते आज मुस्लिम महिलाएं डॉक्टर, इंजीनियर , प्रोफेसर , आईएएस अधिकारी, पायलट, एमपी और एमएलए आदि का ख़िताब लेकर वे भारत का भाग्य बनी हुई हैं। ये विचार जमाअत ए इस्लामी हिंद नागपुर महिला विभाग की अध्यक्ष डॉ सबीहा ख़ान ने ‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस’ के अवसर पर ‘समाज के नवनिर्माण में महिलाओं की भूमिका ‘ विषय पर कार्यक्रम की अध्यक्षता में व्यक्त किए। यह कार्यक्रम जमाअ़त ए इस्लामी हिंद नागपुर साउथ की महिला विभाग के तत्वावधान में गंजीपेठ के


रिफ़ाह सेंटर में आयोजित किया गया था। उन्होंने आगे कहा कि स्वतंत्रता के नाम पर महिलाएं कहीं पुरुषों के शोषण और हवस का शिकार बन जाती हैं ।दुख की बात है कि महिलाओं को स्वतंत्रता के नाम पर सेक्स सिंबल , उसके शरीर को विज्ञापन और मार्केटिंग का माध्यम बना दिया गया है। महिलाएं अपने मौलिक अधिकारों से अब भी कोसों दूर हैं , आश्चर्य है कि आज तक उन्हें आरक्षण भी नहीं मिल सका।
कार्यक्रम में कीर्ति श्रीवास , काजल सूर्यावंशी, सेवानिवृत्त हसनबाग़ प्रायमरी शिक्षिका मुमताज़ बेग़म , उज़मा पारेख़ , स्थानीय अध्यक्ष शबाना शेख़ ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इंकम टैक्स और जीएसटी प्रैक्टिसनर सुहासिनी उल्हास जैन ने महिला संगठन की इस पहल की सराहना की ।
गणेशपेठ पोलिस स्टेशन की कांस्टेबल प्रियंका हेसाऊ ने महिलाओं पर होने वाले अत्याचार, अपराधों के संबंध में भारतीय दंड विधान की विभिन्न धाराओं से अवगत कराया। वे गणेशपेठ पोलिस स्टेशन से बतौर मुख्य अतिथि कार्यक्रम में उपस्थित थीं। इस कार्यक्रम का संचालन शीरीन ख़ान ने किया , रुबीना परवीन ने तज़कीर बिल क़ुरआन से कार्यक्रम का आरंभ किया था तथा आमरीन नाज़ ने तराना प्रस्तुत किया और तस्लीम क़ौसर ने आभार व्यक्त किया।


एक अन्य अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का आयोजन सेंट्रल विभाग ने मोमिनपुरा के यंग मुस्लिम फुटबॉल ग्राउंड के फलाह मिल्लत ऑडिटोरियम हॉल में आयोजित किया । इस अवसर पर गांधी बाग़ की पीएसआई ज्योत्सना भाउसार ने कहा कि अगर कोई पति अपनी पत्नी के साथ दुर्व्यवहार करता है तो वह उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकती है। स्कूल, कॉलेज आते जाते कोई लड़का किसी लड़की को परेशान करता है तो वह उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकती है‌। इस कार्यक्रम की शुरुआत जीआईओ की यूनिट प्रेसिडेंट समरीन फिरदौस ने क़ुरआन पठन से किया। ज़ाहिदा अंसारी ने प्रस्तावना में कहा कि इस्लाम में हर जगह पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार प्रदान किए गए हैं।


प्रोफेसर डॉ. तुलसा डोंगरे, रूमना कौसर ( नाजिमा भंडारा गोंदिया जिला) , नागपुर शहर की अध्यक्ष डॉ. सबिहा खान ने भी अपने विचार व्यक्त किए । सभा में विशेष अतिथि के रूप में पीएसआई ज्योत्सना भाउसार , डब्ल्यूपीएस है अधिकारी ममता जिवतोड़े ,सद्भावना मंच की सदस्य डॉ. तुलसा डोंगरे , समाज सेविका लता दीदी तथा भागीरथ बाई रिंगाने, गोंदिया और भंडारा की जिला अध्यक्ष रुमाना कौसर , नरखेड़ और उमरखेड़ की जिला अध्यक्ष शबनम परवीन , रजिया सुल्ताना , ज़ेहरा खातून आदि आमंत्रित थीं।
इस अवसर पर जीआईओ की सायमा मुस्तफा ने तराना भी प्रस्तुत किया।
शग़ुफ़्ता अंजुम ने संचालन किया ।
दोनों कार्यक्रमों में अत्यधिक संख्या में महिलाएं उपस्थित थीं।
नागपुर वेस्ट महिला विभाग ने गिट्टीखदान पोलिस स्टेशन में महिला पुलिस कर्मियों के साथ अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया।