रुजू इलल क़ुरआन मुहिम पर खिताब के आयोजन

29

रुजू इलल क़ुरआन मुहिम पर खिताब के आयोजन
नागपुर – “यह राज़ किसी को नहीं मालूम कि मोमिन, क़ारी नज़र आता है हक़ीक़त में है क़ुरआन” के अनुसार पैदाइश से लेकर मौत तक हमारी ज़िंदगी के तमाम मामलात क़ुरआन के अनुसार होने चाहिए । क़ुरआन इंडिकेटर और पैरामीटर का दर्जा रखता है । यह तुला है और कसौटी है । क़ुरआन को सामने रखकर हमें अपने दिल का मूल्यांकन और अपनी व्यवहारिक ज़िंदगी पर नज़र डालना चाहिए । इस समय हमें क़ुरआन की तरफ़ पलटे की जरूरत है!

अल्लाह को हमसे क़ुरआन जैसा रिश्ता पसंद है , यह रिश्ता वैसे ही है जैसे हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम ने स्वयं की ज़िंदगी में उन्होंने कर दिखाया था और फिर उन्होंने इंसानियत , समाज कल्याण के उदाहरण प्रस्तुत किए थे। ये विचार औरंगाबाद के मुफ़्ती व क़ाज़ी अब्दुल क़वी फ़लाही ने अवस्थी चौक के चोपड़े लान में नागपुर वेस्ट जमाअ़त के कार्यक्रम में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हमारी नस्ल क़ुरआन को छोड़कर उसके खिलाफ़ के माहौल में संवर रही है ।


मोमिनपुरा जामा मस्जिद के इमाम मुफ्ती मोहम्मद आरिफ़ क़ासमी और
कामठी के मोहम्मद शोएब क़ासमी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि क़ुरआन के अनुसार हमारा रोल मॉडल हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के अलावा कुछ भी नहीं है। नौजवान अपना समय मोबाइल और अन्य गतिविधियों में रात जागकर क़ुरआन के खिलाफ समय बर्बाद कर रहे हैं


इस मुहिम के दौरान बच्चों की सर्वश्रेष्ठ गतिविधियों पर इनाम दिए गए। शकील अहमद ने हम्द , मुश्ताक़ अहसन ने नात और शायान , आतिफ़ , अफ़्फान ख़ान ने क़ुरआन की फ़र्याद पर नज़्म प्रस्तुत की । शोबाए इस्लामी मुआशरा के सचिव ने आभार व्यक्त किया। संचालन ग़ुलाम सैयदेन रब्बानी ने किया।


मध्य महिला विभाग ने मुस्लिम ग्राउंड’ के फ़लाह ऑडिटोरियम में जीआईओ के संयुक्त तत्वावधान में ख़िताबे आम का आयोजन किया।महिला विभाग की शहर डॉ. सबिहा खान ने कहा कि क़ुरआन पूरी मानवता को संबोधित करता है। मुस्लिम समुदाय को अपना जीवन सुधारने गुज़ारने के लिए‌ क़ुरआन के आदेशों को अपनाना होगा। जीआईओ एसोसिएट साइमा मुस्तफा ने “हमारा है महवर उसकी अक़ामत” पर कविता प्रस्तुत की । रज़िया सुल्ताना ने “सहाबियत और पवित्र क़ुरआन” विषय पर विचार व्यक्त किया । जाहिदा अंसारी ने प्रस्तावना प्रस्तुत की। जीआईओ की इकाई अध्यक्ष अस्मा अंसारी , शबनम परवीन , मुश्तिरी बेगम , सफ़िया अंजुम के सहयोग से कार्यक्रम सफल हुआ.

9


नागपुर साऊथ के ख़िताब में अध्यक्षता मौलाना साद नदवी ने की।मौलाना इनामुलहक और मौलाना अंसार क़ासमी के अलावा अन्य मुख्य अतिथियों में मुफ़्ती मौलाना नूर आलम ने क़ुरआन का पैग़ाम पर प्रकाश डाला। अजहर खान ने क़ुरआन की रोशनी में इत्तेहादे उम्मत पर प्रकाश डाला।
“रुजू इलल क़ुरआन” के संबंध में आयोजित प्रतियोगिताओं में विभिन्न ख़िताबे आम में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले बच्चों और महिलाओं को पुरस्कार वितरित किए गए। प्रत्येक ख़िताबे आम में महिला और पुरुषों की अत्यधिक संख्या उपस्थित थे !