मुस्लिम लायब्रेरी तुरंत खोले जाने के पक्ष में है मुस्लिम लायब्रेरी ट्रस्ट

16

मुस्लिम लायब्रेरी तुरंत खोले जाने के पक्ष में है मुस्लिम लायब्रेरी ट्रस्ट
नागपुर – जमाअ़त ए इस्लामी हिंद नागपुर तथा अन्य मुस्लिम समुदाय की विभिन्न संस्थाओं में जमिअत उल्मा नागपुर , तक़िया महबूब शाह कमेटी एवं बहुउद्देशीय संस्था , याक़ूबिया मदरसा कमेटी आदि के साथ डॉ मोहम्मद शरफ़ुद्दीन साहिल मिल कर एक पत्र नगर पालिका आयुक्त और प्रशासन को देने जा रही हैं । इसमें यह मांग की जा रही है कि मुस्लिम लायब्रेरी को खोला जाए और नवीन रूप से निर्वाचित सदस्यों को निस्वार्थ भाव से चलाने का अवसर दिया जाए । यह जानना आवश्यक है कि इस स्थान को नगरपालिका ने अपना कब्ज़ा कर उसे सील कर दिया है।

महानगर पालिका ने अपनी इच्छा जताई है कि वह यहां भव्य आधुनिक ई – लायब्रेरी बनाना चाहती है। जबकि नगर पालिका के साथ ही मुस्लिम लायब्रेरी ट्रस्ट के नवनिर्वाचित सदस्य लायब्रेरी चलाने के इच्छुक दिखाई दे रहे हैं। मुस्लिम लायब्रेरी ट्रस्ट लगभग पिछले सौ साल से इस मुस्लिम लायब्रेरी को चला रहा था । मौजूदा स्थिति में दोनों का उद्देश्य एक समान है । ऐसी स्थिति में दोनों को आपसी सहमति और मिलजुल लायब्रेरी बनाना और चलाने के लिए आगे बढ़ना चाहिए। इस मामले को लेकर मुस्लिम समुदाय बहुत चिंतित है कि आखिर शिक्षा की दृष्टि से इस मुख्य स्थान की लीज़ बढ़ाने की बजाय उसे सील कर दिया गया। मुस्लिम समुदाय इस के प्रति अत्यधिक बैचेन है कि मुस्लिम लायब्रेरी शीघ्र आरंभ की जाए। यह भी जानना आवश्यक है कि मुस्लिम लायब्रेरी से क्षेत्रीय नागरिकों का आत्मीय संबंध है। इस शैक्षणिक संस्थान ने लायब्रेरी के रूप में नागरिकों के शैक्षणिक योग्यताओं को बढ़ाया भी है और उन्हें प्रोत्साहित भी किया है । इसे जारी रखे , शीघ्र ही खोले जाने के लिए और निस्वार्थ भाव से उसे चलाने के पक्ष में मुस्लिम लायब्रेरी ट्रस्ट ने अपनी इच्छा जताई है ।
विदित हो कि मुस्लिम लायब्रेरी के लिए क़ानूनी लड़ाई जारी है । आदरणीय उच्च न्यायालय ने कहा है कि नगर पालिका का उद्देश्य शिक्षा को प्रोत्साहित करना है तो दोनों ने मिलकर नागरिकों को यह सुविधा प्रदान करने पर विचार करना चाहिए।