नागपुर शहर जिल्हा कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग ने सीएम शिंदे और अल्पसंख्यक विकास मंत्री अब्दुल सत्तार को हज यात्रियों के साथ होने वाली अनेकों सम्मास्य से अवगत कराया

41
  • नागपुर / २०२३ के हज यात्रियों के साथ दोहरा व्यवाहार होने एवं लि गई अतिरिक्त राशि (७० हजार) रुपए वापस किया जाय।
  • २०२४ में हज पर जाने वाले यात्री को आने वाली आनेको समस्या का सामना ना करना पड़े, हज राशि भी काम की जाय

    नागपुर / हज पर जाने वाले हाजियों को अनेक समस्या का सामना करना पड़ा, वसीम खान खुद 2023 में पवित्र यात्रा हज पर गए थे वसीम खान ने खुद का उल्लेख करते हुए सीएम एकनाथ शिंदे, वा अब्दुल सत्तार से मुलाकात कर ज्ञापन दिया ज्ञापन में वसीम खान ने 2023 में किए गए हज का उल्लेख किया और होने वाली परेशानी से सीएम शिंदे वा मंत्री अब्दुल सत्तार को अवगत कराया
  • नागपूर शहर जिल्हा कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग का अध्यक्ष और में भी हज २०२३ का यात्री था, कवर नंबर (MHF 6415-3-0) हज २०२३ के यात्रियों को अनेक सम्मास्याओ सामना करना पड़ा जिसका सीधा जिम्मा हज कमेटी ऑफ इंडिया को जाता है, पहले तो नागपुर से जाने वाले यात्रियों से पैसे कि राशि (३७०,००० ) ज्यादा ली गई, वही मुंबई से गए हाजी से कम राशि (३०, ४०००) ली गई। याने ७०००० कम ज्यादा जादा किराया लिया गया मक्का शरीफ की बहुत सी होटल में वाशिन मशीन, सीलिंग फैन की सुविधा नहीं थी, साथ ही खादिम-ए-हुज्जात जो की एक ही होता था उनका राफ्ता सभी से नहीं हो पाता था, मीना में २/७ फुट का बिस्तर देना की बजाय १.५/ ५ का बिस्तर दिया गया जिसमे कही हाजियों को टेंट में जगह नहीं मिली बाहर बिना बिस्तर के ही गुजारा किया, अराफात मैदान में दुर रुका गया। जहा से जबले नूर बहुत ही दूंधला नजर आरा था और कुतबा की आवाज भी नही सुनाई आई। अराफात से मुजदल्फा बस की सुविधा नहीं थी हज यात्री पैदल गए। मुजदलफा में पीने के पानी की सुविधा नहीं वह से जमरात / मीना बस नही मेट्रो का हमको नागपुर में टिकट दिया और वह बोला गया की आप लोगो को बस से जाना है मेट्रो आपका नंबर नही लगा। मुजदल्फ से जमरात हाजी पैदल गया और जमरात से मीना उस रात और दिन में हाजी २४ कि. मिटर पैदल चला जहा दिन का टेंपरेचर ५१ डिग्री था। आखरी के ८ दिन मदीना शरीफ में, अब मदीना शरीफ में तो हद ही पार की गई मुंबई, चतिसगढ़ और दीगर स्टेट के लोगो को हरम से २०० / ३०० मीटर की दूरी पे ५ स्टार होटल में रूखाया और नागपुर / विदर्भ के लोगों को २/३ कि. मिटर दूर ठहरा गया। जहाँ होटल में ३ लोगो की जगह वाले रूम में ५/७ हाजियों को डाला डाला गया और पीने के पानी की किल्लत, लिफ्ट सिर्फ २ और उस होटल में करीब १५०० हाजी रूखे थे। हाजियों से वहा का स्टाफ बहुत बत्तमिजी से बात करता था। कंप्लेंट करने जाओ तो रिसेप्शन पे कोई नही। एसी अनेक सम्मासियों का सामना हज २०२३ के नागपुर / विदर्भ के हाजियों को करना पड़ा। हज २०२३ के नागपुर/विदर्भ के हज यात्रीयों के साथ भेड़, बकरीयों के जैसा बरताव किया गया।
    कृपया कर हज २०२३ के नागपुर / विदर्भ के हज यात्रियों से ली गाई ज्यादा राशि ७० हज़ार रुपये वापस करवाए और हज २०२४ के नागपुर/विदर्भ के हाजियों से राशि कम ले और यात्रियों को ऐसी सब समस्या ना आए,