यूपी/ नीलगाय के फसल नष्ट करने से क्षुब्ध किसान ने दी जान

23

बांदा। कर्ज में डूबे किसान ने नील गायों द्वारा फसल नष्ट करने से दुखी होकर जान दे दी। शाम को वह खेत में बर्बाद फसल को देखकर लौटा और फंदे पर झूल गया। कर्ज अदायगी के लिए बैंक से भी कई बार नोटिस आ चुका था। पुलिस खुदकुशी का कारण पता होने से इनकार कर रही हैl

जसपुरा कस्बा निवासी कुलदीप सिंह (25) तीन भाई और एक बहन में सबसे बड़ा था। गुरुवार देर शाम उसने घर से कुछ दूरी पर बने पशुबाड़े में मफलर से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजन जब पशुबाड़े की तरफ गए तो घटना की जानकारी हुई। कुलदीप के चाचा राजेंद्र सिंह ने बताया कि करीब 13 वर्ष पहले उसके पिता सुरेंद्र सिंह की मौत हो गई थी।

पिता के हिस्से का तीन बीघा खेत है। कुलदीप इसी खेत में फसल बोकर व मजदूरी करके परिवार का भरण पोषण करता था। इस बार उसने खेत में गेहूं की फसल बोई है। शाम को फसल देखकर घर पहुंचा तो काफी व्यथित था। पूछने पर बताया कि नील गायों ने करीब डेढ़ बीघा फसल पूरी तरह से नष्ट कर दी है। बैंक का भी करीब दो लाख 50 हजार रुपये कर्ज है, वहां से भी कई बार नोटिस आ चुके हैं।
अब कैसे कर्ज चुकाएगा। उसे समझाकर किसी तरह शांत किया था। करीब पौने सात बजे वह बिना बताए घर से निकला और पशुबाड़े में जाकर फंदा लगा गया। पुलिस ने पंचनामा भरकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा। थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि घटना की जानकारी मिली है। अभी आत्महत्या का कारण पता नहीं चला है।