Mob Lynching : भैंसें बाजार में बेचने ले जा रहे थे,गौ तस्करी के शक में पीट-पीटकर दो मुस्लिमो की निर्मम हत्या,लाश पुल से नीचे

48
Compressed by jpeg-recompress

घटना Chhattisgarh के Raipur जिले की है. आरंग पुलिस थाना प्रभारी शैलेन्द्र सिंह श्याम ने जानकारी दी कि युवकों ने एक गांव से भैंसें ली थीं और उन्हें ओडिशा के बाजार ले जा रहे थे. फिर क्या हुआ पुलिस ने सब बताया.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh ) के रायपुर जिले में गौ तस्करी के शक में दो लोगों की कथित तौर पर पीट-पीट कर हत्या कर दी गई (Two Killed Cow Smuggling Suspicion). घटना में एक अन्य शख्स गंभीर रूप से घायल हुआ है जो कि अस्पताल में भर्ती है. मृतकों के परिजनों का दावा है कि युवकों की मॉब लिंचिंग हुई है.

मृतकों की पहचान चांद मियां और गुड्डु खान के तौर पर हुई है. वहीं, घायल शख्स का नाम सद्दाम है. पुलिस के मुताबिक, तीनों उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के रहने वाले हैं. 

घटना 6 और 7 जून की दरमियानी करीब रात दो बजे की है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, आरंग पुलिस थाना प्रभारी शैलेन्द्र सिंह श्याम ने जानकारी दी कि तीनों युवकों ने महासमुंद के एक गांव से भैंसें ली थीं और उन्हें ओडिशा के बाजार ले जा रहे थे. रास्ते में उन्हें शक हुआ कि कोई उनका पीछा कर रहा है तो उन्होंने अपना ट्रक रायपुर की ओर मोड़ दिया. 

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कीर्तन राठौड़ ने बताया कि रात को उन्हें सूचना मिली कि कुछ लोग युवकों का पीछा कर रहे हैं. जब वो मौक पर पहुंचे तो महानदी पुल के नीचे घायल हालत में तीनों युवक मिले. उनमें से एक की मौत हो चुकी थी और एक ने अस्पताल में दम तोड़ दिया. 

थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस को शक है कि आरोपियों ने इसकी प्लानिंग पहले से की थी क्योंकि पुल के रास्ते पर कीलें फेंकी गई थीं, जिससे ट्रक पंक्चर हो गया था. पुल पर गाड़ी रोकनी पड़ी और तभी दोनों पक्षों के बीच कथित तौर पर लड़ाई हो गई. पुलिस के मुताबिक, अब तक ये साफ नहीं हो पाया है कि मृतक डर की वजह से पुल से नीचे कूदे और चट्टान से टकरा गए या उन्हें धक्का दिया गया था. सभी पहलुओं की जांच की जा रही है. 

थाना प्रभारी ने बताया है कि घटना में शामिल चार लोगों की पहचान कर ली गई है और आगे की जांच चल रही है. घटनास्थल पर लगे CCTV खंगाले जा रहे हैं. घायल शख्स फिलहाल रायपुर के एक अस्पताल में ICU में भर्ती है और पुलिस उसके बयान का इंतजार कर रही है. 

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, एक पुलिस अफसर ने ये भी बताया कि इस घटना में 10-12 लोग शामिल हैं.

युवकों के एक परिजन शोएब ने दावा किया है कि उस रात उन्हें मृतक चांद और सद्दाम ने फोन किया था जिससे पता चला कि उन पर दो घंटे तक हमला किया गया था. उन्होंने कथित तौर पर फोन पर सद्दाम को कहते हुए सुना कि उसके हाथ-पैर टूट गए हैं और वो हमलावरों से उसे छोड़ देने की गुहार लगा रहा था. वो पानी मांग रहे थे.